Sai Baba Aarti

हैलो फ्रेंड्स कैसे हो आप सब आज हम बात करेंगे Sai Baba Aarti के विषय में साईं बाबा ने अपने जीवन काल में अनेको चमत्कार किये थे। Sai Baba ने अपना जीवन यापन एक फिकिर के सामान व्यतीत किया था वे शिरडी नामक एक गाँव में रहते थे एवं "सबका मालिक एक" जाप निरंतर किया करते थे। गुरूवार के दिन साईं बाबा की पूजा करना अति शुभ दिन माना जाता है तो चलिए बढ़ते है Sai Baba Aarti की ओर जिससे साईं बाबा प्रसन्न होते है।

Sai Baba Aarti
Sai Baba Aarti

साई बाबा धुप की आरती इन हिंदी

आरती साई बाबा। सौख्यदातारा जीवा, चरणरजतळीं द्यावा दसा विसवा, भक्त विसवा, आरती साई बाबा। 
जाळुनियां अनंगा सस्वरूपी रहे आंगा मुमुक्षा, जनन देवी। 
निजा डोला श्रीरंगा, डोला श्रीरंगा,
आरती साई बाबा। 
जाया मणि जैसा भाव टायटिस अनुभव, दाविसी दयाघना, ऐसी टूजी हे मावा, टूजी हे मावा, आरती साई बाबा। तुमचे नामा ध्याता हरे संसृतिव्यथा,
अगाधा तवा करनी मार्ग दाविसी अन्यथा,
दाविसी अन्यथा,
आरती साई बाबा। 
कलियुग अवतारा, सगुणा ब्रह्मा सचरा, 
अवतीर्ण जलसे स्वामी दत्ता दिगम्बरा,
दत्ता दिगम्बरा,
आरती साई बाबा। 
अठान दिवस गुरवारी भक्त करती वरि, 
प्रभुपाद पहावया भाव भयनिवारी,
भयनिवारी,
आरती साई बाबा। 
मज़ा निजद्रव्य थेवा, थवा चरण राजा,
सेवा मागने हेचि आता,
तुम्हें देवादिदेव, देवादिदेव,
आरती साई बाबा। 
इच्छा दिन चटक निर्मला टॉय निजसुख,
पाजावें माधव या संभाला आपुली बहका,
आपुली बहका,
आरती साई बाबा।


Also Read:


Sai Baba Aarti

Conclusion:

हेलो फ्रेंड्स मैं आशा करता हूँ की आपको मेरी पोस्ट Sai Baba Aarti अच्छी लगी होगी यदि आपका मेरी पोस्ट्स से लेकर कोई सवाल है तो आपका कमेंट बॉक्स मैं पूछ सकते हैं।