50+ नज़र अंदाज़ शायरी इन हिंदी

हमारे जीवन में कुछ शख्स ऐसे होते है जो हमारे लिये महत्वपूर्ण होते है जिनसे हमारी बात करने की इच्छा होती है किन्तु वह शख्स हमसे उस प्रकार वर्त्तलाप नहीं करता जितनी हम उनसे इच्छा रखते हैं या वो हमें नज़रअंदाज़ करने की कोशिश करता है इस बात को मद्देनज़र रखते हुए आज हम आपके समक्ष लेकर आये है ऐसी चुन चुनकर शायरी जो ऐसे ही लोगों पर बैठती है फिट नज़रअंदाज़ शायरी इन हिंदी जिसे आप उनलोगो तक पहुंचकर उन्हें एहसास करा सकतें है की वो कितनी बड़ी गलतियां कर रहे है आपको नज़रअंदाज़ करकर और आशा करते हैं की आपको ये शायरी बहुत ही ज्यादा पसंद भी आयें। 

आज नज़रअंदाज़ करोगे,
तो कल याद भी करोगे।।।

आज नज़रअंदाज़ करोगे,
तो कल याद भी करोगे।।।

बिजी हो बोल दिया करो,
पर इग्नोर मत किया करो।।।

तेरा हर अंदाज़ पसंद है,
सिवाये नज़रअंदाज़ के।।।

कुछ खामियाँ मुझमें थी कुछ कमिया उनमें थी,
फर्क बस इतना था वो हिसाब रखते रहे और हम नज़रअंदाज़ करते रहे।।।

गलती हमारी थी की हम उनसे ज़्यादा बात करने लगे,
जब हो गई हमें उनकी आदत तो वो हमें नज़रअंदाज़ करने लगे।।।

कोशिश बस इतनी है की कोई नज़रअंदाज़ न हो हमसे,
नज़रअंदाज़ करने वालों से से नज़रे हम भी नहीं मिलाते।।।

ब्लॉक करना नहीं नज़रअंदाज़ करना सीखो,
वरना तुम्हारी कामयाबी कैसे देखेंगे वो लोग।।।

कुछ यु मिली नज़रे उनसे,
की बाकी सब नज़रअंदाज़ हो गया।।।

अपना वही है जो किसी के लिये,
कभी आपको नज़रअंदाज़ न करे।।।

गलतियां सिर्फ दूसरों की दिखती है,
अपनी तो नज़रअंदाज़ की जाती हैं।।।

गलतियां सिर्फ दूसरों की दिखती है,
अपनी तो नज़रअंदाज़ की जाती हैं।।।

तकलीफे तो बहुत है जीवन में,
बस कोई अपना नज़रअंदाज़ करे यही बर्दास्त नहीं होता।।।

हमें सब नज़रअंदाज़ करके खुश हैं,
ओर हम अपने में मस्त है।।।

सुनो बहुत नज़रअंदाज़ किया है तुमने,
अब बस इतना करना की कभी नज़र मत आना।।।

आप जिसे जितना चाहो,
वो आपको उतना ही नज़रअंदाज़ करता है।।।

उन्होंने हमें नज़रअंदाज़ क्या किया,
हमने उन्हें नज़र आना ही छोड़ दिया।।।

सोचते हैं थोड़ा नज़रअंदाज़ हम भी करले,
पर आपसे नज़र हटती नहीं।।।

नज़र आने के लाखों बहाने थे उनके पास,
लेकिन नज़रअंदाज़ करने का एक भी नहीं।।।

कभी किसी को इतना भी इग्नोर मत करो,
की वो आपके बिना जीना सीखा जाये।।।

गलतियां सिर्फ दूसरों की दिखती है,
अपनी तो नज़रअंदाज़ की जाती हैं।।।

ज़िन्दा रहना का कुछ ये अंदाज़ रखो,
जो तुम्हें न समझे उसे नज़रअंदाज़ करो।।।

तुम लाख छुपाओ मुझसे जो रिश्ता है तुम्हारा,
सयाने कहते हैं की नज़रअंदाज़ करना भी मोहब्बत है।।।

यदि कोई आपको नज़रअंदाज़ करता है,
तो बेहतर यही होगा फिर से आप उसे ये मौका दोबारा न दें।।।

इश्क़ था तुमसे इसलिए कभी नज़रअंदाज़ नहीं किया,
वरना बेरुखी तुमसे कहीं बेहतर जानते थे हम।।।

जब कोई नज़रअंदाज़ करें तो बुरा न मान,
टूटकर चाहने को वालों को रुलाना तो रवाज़ है इस दुनिया का।।।

अगर नज़रअंदाज़ कर रहे हो,
तो अंदाजा उस दिन का भी लगा लेना जब हम नज़र नहीं आएंगे।।।

अब हद से ज्यादा बढ़ चूका है आपका इग्नोर करना,
ऐसा न करो की हम भी आपको भूलने पर मजबूर हो जाये।।।

उस शख्स को कभी नज़रअंदाज़ मत करना जो आपकी परवाह करते है,
और उन लोगों की परवाह कभी मत करना जो आपको नज़र अंदाज़ करतें है।।।

तुमसे ही सीखा है ये तरीका नज़रअंदाज़ का,
जब तुमपर की आज़माया तो रोना क्यों आ गया।।।

बेवजह रूठा न करो हमसे,
हम तुम्हारा गुस्सा तो सहन कर सकतें है,
लेकिन तुम्हारी नज़रअंदाज़ी नहीं।।।

जब खुद पे बीतेगी तो तुम्हें भी,
अपने आप पता लग जायेगा की कितना बुरा लगता है,
जब आपका कोई अपना आपको इग्नोर करता है।।।

जब नज़र अंदाज़ होने लगो,
तो किसी को कुछ न कहो,
बस किनारा करलो।।।

सारा दिन नज़रअंदाज़ होकर भी,
एक मिनट में रिप्लाई देना भी,
एकतरफा प्यार की ओर इशारा करता है।।।

इग्नोर करना है तो शोक से करो,
पर ये बात याद रखना,
लौटकर सिर्फ यादें आती है,
इंसान नहीं।।।

बेशक नज़रअंदाज़ करो मुझे आज,
मुझे कोई गिला नहीं,
कल जब जरुरत होगी मेरी,
मैं भी नहीं मिलूंगा तुम्हें।।।

Leave a Comment

Your email address will not be published.